गाजा में संयुक्त राष्ट्र के गोदामों पर लोगों ने किया हमला, भूख और अभाव के कारण नागरिक व्यवस्था चरमराई

456

गाजा में संयुक्त राष्ट्र के गोदामों पर लोगों ने किया हमला, भूख और अभाव के कारण नागरिक व्यवस्था चरमराई

इजरायल के हमलों और घेराबंदी के चलते गाजा के 23 लाख लोग भोजन, पानी, कपड़ों और दवाओं के लिए जूझ रहे हैं। विश्व समुदाय की कोशिशों से राफा क्रॉसिंग से बुनियादी जरूरतों और दवाओं की कुछ आपूर्ति गाजा जा रही है लेकिन ये इतनी बड़ी आबादी के लिए नाकाफी साबित हो रही है। ऐसे में भीड़ सड़कों पर उतरने लगी है। भीड़ ने संयुक्त राष्ट्र के अनाज रखने के लिए बनाए गए गोदामों घुसकर जबरदस्ती सामान उठा लिया।

जरायल और हमास युद्ध के चौथे सप्ताह में प्रवेश के साथ इजरायली सेना की लगातार हवाई बमबारी और व्यापक जमीनी हमले के बीच गाजा में भूख और प्यास से तड़प रहे हजारों हताश लोगों ने भोजन की तलाश में संयुक्त राष्ट्र के गोदामों पर धावा बोल दिया, जिसके बाद क्षेत्र में सामाजिक व्यवस्था चरमराने लगी है।

द गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार, फिलिस्तीनी शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी (यूएनआरडब्ल्यूए) के प्रमुख थॉमस व्हाइट ने रविवार को कहा, ”41 किलोमीटर से 12 किलोमीटर की नाकाबंदी वाली पट्टी में संयुक्त राष्ट्र द्वारा संचालित कई केंद्रों से रात भर में गेहूं, आटा और स्वच्छता सामग्री की आपूर्ति की गई थी, जहां 2 मिलियन से अधिक फंसे हुए लोग रह रहे थे।”

थॉमस व्हाइट ने गोदामों पर लोगों के हमले पर चिंता जताते हुए कहा कि यह एक चिंताजनक संकेत है कि तीन सप्ताह के युद्ध और कड़ी घेराबंदी के बाद नागरिक व्यवस्था टूटने लगी है। केवल बुनियादी अस्तित्व के लिए समुदायों की ज़रूरतें बहुत अधिक हैं, जबकि हमें मिलने वाली सहायता बहुत कम है। इस कारण कई जगह लोगों का धैर्य जवाब दे रहा है।

द गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार, गाजा में तीन सप्ताह की लगभग पूरी घेराबंदी के बाद बुनियादी सेवाएं पूरी तरह से चरमरा गई हैं। जिससे सड़कों पर सीवेज का पानी भर जाने, भोजन, पानी और दवाओं के खत्म हो जाने के कारण लोगों को गंभीर समस्याओं के साथ बीमारी के गंभीर प्रकोप का भी सामना करना पड़ रहा है।

हमास द्वारा संचालित स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, इज़रायल ने शुक्रवार रात तटीय क्षेत्र में पहले से ही विनाशकारी हवाई अभियान को तेजी से बढ़ा दिया है, जिसमें अब तक 8,000 से अधिक लोग मारे गए हैं। हमलों और तोपखाने की आड़ में इजरायली सैनिकों ने गाजा पट्टी के उत्तर में बेइत लाहिया और बेइत हनौन के क्षेत्रों में बढ़ना शुरू कर दिया है। प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने इसे 7 अक्टूबर को दक्षिणी इज़रायल में हमास के उत्पात से शुरू हुए युद्ध के दूसरे चरण के रूप में वर्णित किया है।