Refusal to leave Ukraine : यूक्रेन छोड़ने से इंकार कहा ‘मकान मालिक युद्ध में, परिवार को अकेला कैसे छोड़ दूं’

1972

Charkhi Dadri : हरियाणा की एक बेटी  नेहा सांगवान जो यूक्रेन में MBBS की पढ़ाई कर रही है, उसने युद्ध के दौरान वापस भारत लौटने से इंकार कर दिया। उसका कहना है कि उसका मकान मालिक युद्ध पर गया है। ऐसे में वह मकान मालकिन और उसके तीन बच्चों को कैसे छोड़कर जा सकती है। हालांकि, परिवार के सदस्यों ने बेटी को वापस भारत आने का कई बार प्रयास किया, लेकिन उसने साफ कर दिया है कि वह यहां इनकी सेवा करेगी।

नेहा एक सैनिक की बेटी है। पिछले साल ही उसके पिता का निधन हो गया था। उनकी मां अध्यापिका हैं और लगातार बेटी से संपर्क साधकर वहां के हालात के बारे में जानकारी ले रही हैं। चरखी दादरी निवासी 17 साल नेहा सांगवान एक साल पहले मेडिकल की पढ़ाई करने यूक्रेन गई थी। कॉलेज का हॉस्टल नहीं मिला तो उसने सिविल इंजीनियर के यहाँ किराए पर कमरा लिया है।

अब रूस के साथ युद्ध होने के चलते मकान मालिक सेना में भर्ती हो गए हैं और युद्ध पर निकल गए हैं। इसे देखते हुए मकान मालिक का परिवार और नेहा बंकर में समय बीता रहे हैं। नेहा का कहना है कि जब उसे हॉस्टल में कमरा नहीं मिला था तो इसी परिवार ने उसे अपने परिवार के सदस्य की तरह रखा। अब ये मुसीबत में हैं तो इनको अकेले नहीं छोड़ सकती।

नेहा की मां की एक दोस्त सविता जाखड़ ने इस पूरे मामले को सोशल मीडिया पर पोस्ट किया है। सोशल मीडिया पर भी इस बेटी की बहादुरी को लेकर जमकर प्रशंसा की जा रही है। हालांकि, सुरक्षा की दृष्टि से बेटी की फोटो और परिवार की पहचान नहीं बताई जा रही है।

अपडेट ले रहे मुख्यमंत्री

हरियाणा सरकार यूक्रेन में प्रदेश के युवाओं को हर संभव सहायता प्रदान करने के लिए विदेश मंत्रालय के साथ लगातार संपर्क में है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खुद इसे लेकर संजीदा हैं और अधिकारियों से इस संबंध में अपडेट ले रहे हैं। प्रदेश सरकार ने यूक्रेन में फंसे हरियाणा के सभी लोगों की लिस्ट तैयार की है। इस लिस्ट के अनुसार ही लोगों को वहां से निकाला जाएगा।