राष्ट्र की एकता और अखंडता बनाए रखने के लिए  त्याग और बलिदान का भाव रखें – राष्ट्रीय एकता शिविर में कमिश्नर डॉ भार्गव

राष्ट्र की एकता और अखंडता बनाए रखने के लिए त्याग और बलिदान का भाव रखें – राष्ट्रीय एकता शिविर में कमिश्नर डॉ भार्गव

मीडियावाला.इन।

रीवा: केन्द्रीय विद्यालय संगठन द्वारा एक भारत श्रेष्ठ भारत योजना अंतर्गत राष्ट्रीय एकता शिविरों का आयोजन किया जाता है। इसी क्रम में आज कमिश्नर रीवा संभाग एवं विद्यालय प्रबंधन समिति केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक एक के अध्यक्ष डॉ. अशोक कुमार भार्गव के मुख्य आतिथ्य में केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक एक में राष्ट्रीय एकता शिविर आयोजित किया गया। इस अवसर पर केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक एक के सभागार में नागालैंड एवं न्यूजीलैंड की संस्कृति और सभ्यता पर आधारित छात्र-छात्राओं द्वारा प्रदर्शनी भी लगाई गई जिसका कमिश्नर डॉ. भार्गव ने शुभारंभ किया और छात्र-छात्राओं द्वारा किये गये कार्य की सराहना की। 

कमिश्नर डॉ. भार्गव ने छात्र-छात्राओं को राष्ट्रीय एकता एवं अखंडता के लिए प्रेरित करते हुए कहा कि हम सब बड़े सौभाग्यशाली हैं कि हमें भारत की पवित्र धरा पर जन्म लेने का सौभाग्य मिला है। भारत निरंतर प्रगतिशील राष्ट्र है। भारतवर्ष पर हमें गर्व होना चाहिए। छात्र-छात्राओं की प्रतिभा निखारने एवं आत्मविश्वास बढ़ाने और उपलब्धियां अर्जित करने के लिए यह शिविर उपयोगी साबित होगा। शिविर में छात्र-छात्राओं की कलात्मक अभिरूचि जागृत होगी। 

कमिश्नर डॉ. भार्गव ने कहा कि भारत अनेक जाति, धर्म एवं संप्रदायों का देश है। फिर भी भारत में अनेकता में एकता देखने को मिलती है। भारत एक महासागर की तरह है। भारत में अनेक जातियां आईं और यहां आकर समा गईं। भारत में वसुधैव कुटुंबकम की भावना देखने को मिलती है। भारत की एकता और अखंडता बनाए रखने के लिए त्याग और बलिदान का भाव रखकर हमें अपने मौलिक कत्र्तव्यों का पालन करना चाहिए। कमिश्नर डॉ. भार्गव ने शिक्षकों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रारंभ से ही यदि हम अपने छात्र-छात्राओं को राष्ट्रप्रेम, राष्ट्रभक्ति के प्रति महफूज करेंगे तो हमारी एकता एवं अखंडता और मजबूत होगी। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों के व्यक्तित्व का विकास करने के लिए राष्ट्रीय एकता का पाठ पढ़ाया जाना जरूरी है। विद्यार्थियों में अपने देश के प्रति त्याग और बलिदान का भाव होना चाहिए। इस राष्ट्र और समाज के प्रति हमारा कर्तव्य है कि हम सब राष्ट्रीय संपत्ति का नुकसान नहीं करें। आपस में भाईचारा और सद्भाव का भाव रखें। कमिश्नर डॉ. भार्गव ने विद्यार्थियों को विपरीत परिस्थितियों में भी उत्कृष्ट कार्य करने की कोशिश हमेशा करने की समझाइश दी। उन्होंने कहा कि निरंतर प्रयास करते रहने से ही सफलता प्राप्त होती है। कामयाबी संयोग से नहीं वरन पूरी निष्ठा मेहनत और लगन से ही प्राप्त की जा सकती है। उन्होंने विभिन्न उदाहरणों, प्रसंगों और रोचक कहानियों के माध्यम से छात्र-छात्राओं को आगे बढ़ने एवं राष्ट्र की एकता और अखंडता बनाए रखने की समझाइश दी। उन्होंने राष्ट्रीय एकता पर्व की सभी को शुभकामनाएं और बधाई दी। 

 

विद्यालय के प्राचार्य चंदन कोहली ने स्वागत उद्बोधन प्रस्तुत करते हुए कहा कि केन्द्रीय विद्यालय संगठन द्वारा संकुल, संभाग, राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर पर इन शिविरों का आयोजन किया जाता है। यह शिविर सतना संकुल के छात्र-छात्राओं के लिए आयोजित किया गया है। यहां से चयनित होने के बाद छात्र-छात्राएं संभाग स्तर, राज्य स्तर एवं राष्ट्र स्तर पर भाग ले सकेंगे। सतना संकुल के अन्तर्गत सतना, छतरपुर, पन्ना, सीधी एवं जबलपुर के सात केन्द्रीय विद्यालयों को इस कार्यक्रम में शामिल किया गया है। 

कार्यक्रम में केन्द्रीय विद्यालय छतरपुर से आए पर्यवेक्षक प्राचार्य श्री बी.एस. राठौर, केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक-1 के शिक्षक महेश पाण्डेय, रितु लखेरा, रविता पाठक, ए.के. सिंह, प्रीति तिवारी सहित अन्य शिक्षकगण एवं सतना संकुल के विभिन्न केन्द्रीय विद्यालय से पधारे शिक्षकगण, छात्र-छात्राएं आदि उपस्थित थे। 

 

0 comments      

Add Comment