भोपाल में कर्फ्यू का असर / पुलिस की सख्ती से सड़कों पर सन्नाटा, कमलनाथ के राजनीतिक सलाहकार मिगलानी होम आइसोलेशन में

भोपाल में कर्फ्यू का असर / पुलिस की सख्ती से सड़कों पर सन्नाटा, कमलनाथ के राजनीतिक सलाहकार मिगलानी होम आइसोलेशन में

मीडियावाला.इन।

भोपाल. जनता कर्फ्यू के सफल और टोटल लॉक डाउन के असफल होने के बाद भोपाल में देर रात से कर्फ्यू लागू कर दिया गया। लेकिन, मंगलवार सुबह से पुराने शहर में एक बार फिर लोग सड़कों पर निकल आए। वाहनों की आवाजाही शुरू हो गई और कॉलोनियों और बस्तियों की छोटी-छोटी दुकानें खुल गईं। इन पर सामान लेने वालों की भीड़ उमड़ पड़ी। थोड़ी देर में पुलिस की सायरन बजाती गाड़ियां मौके पर पहुंची और लोगों को समझाइश दी। जो लोग नहीं मान रहे थे, पुलिस ने उनको लाठी का खौफ भी दिखाया। इसके बाद लोग घरों में चले गए। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के राजनीतिक सलाहकार आरके मिगलनी को बीमारी के चलते होम आइसोलेशन में रखा गया।

भोपाल में सुबह 11 बजे के बाद पुलिस ने सख्ती दिखानी शुरू की। लोग घरों में हैं। सड़कों पर इक्का-दुक्का वाहन नजर आ रहे हैं। पुलिस वाहन चालकों को रोककर घर जाने का कह रही है। नहीं मानने पर कार्रवाई की चेतावनी दे रही है। पुलिस ने सोमवार देर रात शहर की पॉश कॉलोनियों में भी मुनादी कराई। जिसका असर आज देखने को मिल रहा है। सुबह दूध की दुकानें भी जल्दी खुलने के बाद करीब 9 बजे बंद हो गईं। इसी तरह दूध सप्लाई का काम भी 9 बजे से पहले पूरा हो गया। कई इलाकों में पुलिस को कर्फ्यू का पालन कराने के लिए लाठी का सहारा लेना पड़ा। 

कर्फ्यू के कारण कॉलोनियों में सन्नाटा पसरा है। लोगों में भय का माहौल है। इधर, अस्पतालों में भीड़-भाड़ है। जेपी अस्पताल की ओपीडी में अपेक्षा से ज्यादा भीड़ देखी जा रही है। समझाइश के बाद भी लोग लाइन में पास-पास लगे हैं। हालांकि, हमीदिया और सुल्तानिया अस्पताल में आज ओपीडी बंद है। लोगों को इमरजेंसी में ही इलाज मिल रहा है। यहां सर्दी खांसी के मरीजों के लिए अलग से ओपीडी बनाई गई है। 

कमलनाथ के राजनीतिक सलाहकार मिगलानी होम आइसोलेशन में

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के राजनीतिक सलाहकार आरके मिगलानी को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने होम आइसोलेशन में रखा है। बताया जा रहा है कि मिगलानी 21 मार्च से किसी बीमारी से पीड़ित थे। मिगलानी के थ्रोट सुआब का नमूना जांच के लिए स्मार्ट सिटी हॉस्पिटल में भेजा गया है। मिगलानी के घर पर स्वास्थ्य विभाग की टीम तैनात की गई है। 

नर्स और इंजीनियर ने छिपाई विदेश यात्रा की जानकारी

1100 क्वार्टर स्थित सिविल डिस्पेंसरी में तैनात नर्स प्रीति मेहरा और उनके पीडब्लयूडी में पदस्थ इंजीनियर पति जीपी मेहरा ने विदेश जाने की जानकारी छिपाई। बताया जा रहा है कि पति-पत्नी और उनकी बेटी 9 दिन दुबई में बिताएं और 11 मार्च को वहां से लौटे। परिवार उसी फ्लाइट से वापस आया, जिसमें जबलपुर का सराफा व्यवसायी का संक्रमित परिवार वापस आया है। मेहता दंपती की बेटी को बुखार, सर्दी, जुकाम की शिकायत हुई तो नर्स प्रीति ने घर में ही उसका इलाज किया। प्रीति के साथ काम करने वाली एक दूसरी नर्स की भी तबीयत खराब है। एहितियात के तौर पर नर्स के पूरे परिवार और स्टाफ के अन्य लोगों को होम आइसोलेट किया गया है।

जेपी अस्पताल की अधीक्षक का ट्रांसफर

कोरोनावायरस के मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में जेपी अस्पताल की अधीक्षका डॉ. अलका परानिया का सोमवार रात ट्रांसफर कर दिया गया। उन्हें सिविल अस्पताल बैरागढ़ में पदस्थ किया गया। डॉ. अरविंद टंडन को अस्पताल का नया अधीक्षक बनाया गया। डॉ. अलका ने कोरोना के एक संदिग्ध मरीज को आइसोलेशन वार्ड की जगह प्राइवेट वार्ड में भर्ती करवा दिया था।सोर्स-दैनिक भास्कर

0 comments      

Add Comment