Thursday, October 24, 2019
सामाजिक और शैक्षणिक आधार पर मराठा समाज को आरक्षण देगी राज्य सरकार

सामाजिक और शैक्षणिक आधार पर मराठा समाज को आरक्षण देगी राज्य सरकार

मीडियावाला.इन।

  • राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग द्वारा दी गई रिपोर्ट के आधार पर लिया गया फैसला
  • मुख्यमंत्री फड़णवीस ने कहा था- 1 दिसंबर से जश्न मनाने के लिए तैयार रहें मराठा
  • महाराष्ट्र में मराठा आरक्षण को लेकर तीन साल से चल रहा है आंदोलन


मुंबई. मराठा आरक्षण को लेकर महाराष्ट्र कैबिनेट ने रविवार को बड़ा फैसला लिया। महाराष्ट्र में अब मराठा जाति से जुड़े लोगों को सामाजिक और शैक्षणिक आधार पर आरक्षण दिया जाएगा। यह फैसला राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग द्वारा दी गई रिपोर्ट के आधार पर लिया गया है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने रविवार को इसकी घोषण की। माना जा रहा है कि राज्यभर में मराठा को मिलने वाले आरक्षण की व्यवस्था 1 दिसंबर से लागू होगी।


मुख्यमंत्री ने माना राज्य में पिछड़ा हुआ है मराठा

रविवार को मुख्यमंत्री फडणवीस ने फैसले के बारे में जानकारी देते हुए कहा, "मराठा समाज को आरक्षण देने पर सहमति बन चुकी है। इस संबंध में कैबिनेट की बैठक के दौरान एससीबीसी बिल पर मुहर लगाई गई है। सरकार का मानना है कि मराठा समुदाय शैक्षणिक और सामाजिक रूप से पिछड़ा हुआ है।" गुरुवार को राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग द्वारा मराठा आरक्षण को लेकर पेश रिपोर्ट के बाद मुख्यमंत्री ने अहमदनगर में कहा था कि राज्य के मराठा 1 दिसंबर को जश्न मनाने के लिए तैयार रहें। 

 

महाराष्ट्र में होगा 67 प्रतिशत आरक्षण

मराठा आरक्षण लागू होने के बाद महाराष्ट्र में कुल आरक्षण 68 प्रतिशत हो जाएगा। अभी अलग-अलग वर्गों को मिलाकर 52 प्रतिशत आरक्षण है। राज्य सरकार ने जून 2017 में पिछड़ा वर्ग आयोग को मराठा आरक्षण के मुद्दे पर सर्वेक्षण करने को कहा था। आयोग ने महाराष्‍ट्र के कई हिस्‍सों का दौरा किया। दो लाख मराठा समुदाय के सदस्‍यों की शिकायतें सुनीं। इस दौरान आयोग ने 25 हजार परिवारों का सर्वेक्षण किया। इसकेे आधार पर रिपोर्ट तैयार की।

 

16 दिन बाद खत्म हुई भूख हड़ताल

मराठा आरक्षण को लेकर पिछले 16 दिनों से मुंबई के आजाद मैदान और राज्य के कुछ हिस्सों में जिलाधिकारी कार्यालय पर भूख हड़ताल पर बैठे सकल मराठा क्रांति मोर्चा के युवकों ने शनिवार देर रात को राज्य जल संपदा मंत्री गिरिश महाजन की मध्यस्थ्ता के बाद हड़ताल खत्म कर दिया। 

0 comments      

Add Comment