KISSA-A-IAS / IFS: पति IAS और पत्नी IFS की सफल प्रेम कथा, पर फासला है 2700 किमी का!

855

KISSA-A-IAS / IFS: पति IAS और पत्नी IFS की सफल प्रेम कथा, पर फासला है 2700 किमी का!

UPSC की सिविल सेवा परीक्षा पास करने वालों को प्रशिक्षण के लिए लालबहादुर शास्त्री नेशनल एकेडमी ऑफ़ एडमिनिस्ट्रेशन (LBSNAA) मसूरी की खूबसूरत वादियों में भेजा जाता है। यहां पर अफसर ट्रेनिंग के दौरान दिल दे बैठते हैं। अखिल भारतीय सेवा के अधिकारियों की इस ट्रेनिंग अकादमी से कई अफसरों की प्रेम कहानी निकली हैं। इन दिनों IAS अनमोल सागर व IFS कनिष्‍का सिंह की लव स्टोरी सुखियों में है। IAS अनमोल सागर और IFS कनिष्‍का सिंह ने अपनी अकादमी वाली दोस्ती को पहले प्यार और फिर शादी में बदल लिया। यह बात अलग है कि पोस्टिंग के लिहाज से अनमोल और कनिष्‍का के बीच 2700 से ज्यादा किलोमीटर की दूरी है। मगर प्यार में जमीन की ये दूरी कोई मायने नहीं रखती। बस दिलों में दूरी नहीं रहनी चाहिए।

KISSA-A-IAS / IFS: पति IAS और पत्नी IFS की सफल प्रेम कथा, पर फासला है 2700 किमी का!

UPSC क्लियर करना आसान नहीं होता। परीक्षा देने वाले को हर स्तर पर हर तरह से परखा जाता है। इसलिए कि ये देश की सबसे प्रतिष्ठित और कठिन परीक्षा होती है, जिनमें सफल होने वालों के हाथ में देश का भविष्य सुरक्षित होता है। लाखों कैंडिडेट्स में से कुछ ही अपने सपनों को पूरा कर पाते हैं। इन्हीं में शामिल है सोशल मीडिया सेंसेशन IAS अनमोल सागर और उनकी पत्नी IFS कनिष्का सिंह। दोनों ही बेहद प्रतिभाशाली हैं जिन्होंने ये परीक्षा पास की है। उत्तर प्रदेश के अनमोल सागर ने 24 साल में दूसरे अटेम्प्ट में UPSC क्लियर की थी। दिल्ली की कनिष्का सिंह ने भी दूसरे अटेम्प्ट में ये परीक्षा पास की और वे टॉपर रही।

KISSA-A-IAS / IFS: पति IAS और पत्नी IFS की सफल प्रेम कथा, पर फासला है 2700 किमी का!

IFS अधिकारी कनिष्का सिंह दिल्ली की रहने वाली हैं। उन्होंने दिल्ली के लेडी श्रीराम कॉलेज से मनोविज्ञान की डिग्री हासिल की और UPSC की तैयारियों में जुट गईं। कनिष्‍का सिंह ने 2017 में पहली की सिविल सेवा परीक्षा में भाग्य आजमाया, मगर असफल रहीं। दूसरी बार 2018 में फिर परीक्षा दी। इस बार 416 रैंक पाकर भारतीय विदेश सेवा की अफसर बनीं। UPSC की सिविल सेवा परीक्षा में 977 अंक पाने वाली कनिष्‍का सिंह के पिता दिल्‍ली पुलिस में हैं। कनिष्का सिंह ने 10 मॉक टेस्‍ट दिए, फिर असफल रहीं तो दूसरी बार में 60 मॉक टेस्‍ट देकर काफी अच्छी तैयारी की थी। कनिष्का सिंह तुर्कमेनिस्तान की राजधानी अशगाबट की एंबेसी में पोस्टेड हैं। सेकंड सेक्रेटरी के साथ ही कनिष्का हेड ऑफ चांसरी का कार्यभार भी संभाल रही हैं। इससे पहले रूस के मास्को में भी सेवाएं दे चुकी हैं।

WhatsApp Image 2023 03 25 at 10.43.00 PM 1

IAS अनमोल सागर महाराष्ट्र कैडर में हैं और फ़िलहाल वे महाराष्ट्र के गोंदिया जिले में पदस्थ है। उनका जन्म 6 जून 1995 को उत्तर प्रदेश में हुआ। उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी के किरोड़ीमल कॉलेज से भूगोल में बीए ऑनर्स किया। 2017 में अनमोल सागर पहले प्रयास में असफल रहे, तब इनकी उम्र महज 22 साल थी। 2018 में अपने दूसरे प्रयास में अनमोल सागर 414 वीं रैंक पाकर महाराष्ट्र कैडर के IAS अधिकारी बन गए।


Read More… KISSA-A-IPS: तेज तर्राट ‘ज्योति’ जो ‘हरजोत’ की मोहब्बत में कैद हो गई


KISSA-A-IAS / IFS: पति IAS और पत्नी IFS की सफल प्रेम कथा, पर फासला है 2700 किमी का!

WhatsApp Image 2023 03 25 at 10.43.00 PM

अनमोल सागर सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं। यूजर्स की हर क्वेरीज़ का जवाब देते हैं। इंस्टाग्राम पर उनके करीब 40 हजार फॉलोअर्स हैं। अनमोल UPSC की तैयारी कर रहे युवाओं को सलाह देते हैं कि हर कंडीशन में सोच को पॉजिटिव रखें और पूरे मन से पढ़ाई करें। कनिष्का सिंह भी सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव दिखाई देती हैं। इंस्टाग्राम पर उनके 72 हजार से ज्यादा फॉलोअर्स हैं। कनिष्का कहती हैं कि गलतियों को दोहराने से बचना चाहिए और जब तैयारी पूरी हो जाए तब ज्यादा से ज्यादा प्रैक्टिस और मॉक टेस्ट पर फोकस करना चाहिए।

Author profile
Suresh Tiwari
सुरेश तिवारी

MEDIAWALA न्यूज़ पोर्टल के प्रधान संपादक सुरेश तिवारी मीडिया के क्षेत्र में जाना पहचाना नाम है। वे मध्यप्रदेश् शासन के पूर्व जनसंपर्क संचालक और मध्यप्रदेश माध्यम के पूर्व एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर रहने के साथ ही एक कुशल प्रशासनिक अधिकारी और प्रखर मीडिया पर्सन हैं। जनसंपर्क विभाग के कार्यकाल के दौरान श्री तिवारी ने जहां समकालीन पत्रकारों से प्रगाढ़ आत्मीय रिश्ते बनाकर सकारात्मक पत्रकारिता के क्षेत्र में महती भूमिका निभाई, वहीं नए पत्रकारों को तैयार कर उन्हें तराशने का काम भी किया। mediawala.in वैसे तो प्रदेश, देश और अंतरराष्ट्रीय स्तर की खबरों को तेज गति से प्रस्तुत करती है लेकिन मुख्य फोकस पॉलिटिक्स और ब्यूरोक्रेसी की खबरों पर होता है। मीडियावाला पोर्टल पिछले सालों में सोशल मीडिया के क्षेत्र में न सिर्फ मध्यप्रदेश वरन देश में अपनी विशेष पहचान बनाने में कामयाब रहा है।