Navel: नाभि में छुपे हैं सेहत के कई राज, बॉडी में बदलाव होने पर ऐसे मिलते हैं संकेत

720

Navel: नाभि में छुपे हैं सेहत के कई राज, बॉडी में बदलाव होने पर ऐसे मिलते हैं संकेत

मारे शरीर पर कई ऐसे अंग हैं जिन पर हम कम ध्यान देते हैं, लेकिन उनका हमारी सेहत में बहुत महत्व होता है. ऐसी ही एक अनदेखी नायिका है हमारी नाभि. भले ही यह शरीर का एक छोटा और महत्वहीन सा हिस्सा लगता हो, लेकिन नाभि का काम सिर्फ नाल के जुड़े रहने तक ही सीमित नहीं है

जन्म के समय नाभि के छेदने के बाद जो निशान रह जाता है उसे नाभि या बेली बटन कहते हैं. यह सिर्फ सौंदर्य का ही नहीं, बल्कि हमारे स्वास्थ्य का भी एक महत्वपूर्ण संकेतक है. यह आपके स्वास्थ्य के बारे में कई राज खोल सकती है. चलिए जानते हैं कैसे?

संक्रमण का खतरा
अगर आपकी नाभि के आस-पास लालिमा, सूजन और दर्द हो रहा है, तो यह संक्रमण का संकेत हो सकता है. फंगस, यीस्ट या बैक्टीरिया जैसे रोगाणु नाभि में प्रवेश कर सकते हैं और संक्रमण का कारण बन सकते हैं. समय पर इलाज न मिलने पर यह संक्रमण गंभीर हो सकता है और शरीर के दूसरे हिस्सों में भी फैल सकता है.

Castor oil On Belly Button main

हर्निया का संकेत
बाहर निकली नाभि हर्निया का संकेत हो सकती है. हर्निया तब होता है जब कोई आंतरिक अंग कमजोर पड़ी पेट की दीवार के किसी हिस्से से बाहर निकल आता है. मोटे या गर्भवती महिलाओं में भी इस तरह की नाभि हो सकती है. कभी-कभी नाभि का उभार पेट में जमा पानी (एसाइट्स) का संकेत भी हो सकता है.

th?id=OIP

नवजात शिशुओं में संक्रमण
ओम्फालिटिस एक ऐसा संक्रमण है जो ज्यादातर नवजात शिशुओं और छोटे बच्चों को होता है. इसमें नाभि में लालिमा, सूजन और द्रव का रिसाव जैसे लक्षण दिखाई देते हैं. बिना इलाज के ओम्फालिटिस गंभीर जटिलताओं को जन्म दे सकता है, जिनमें सेप्सिस (खून में घुलने वाला संक्रमण) भी शामिल है.

ग्रैन्यूलोमा का खतरा
नवजात शिशुओं और छोटे बच्चों में नाभि के आस-पास का मांस लाल और उभरा हुआ हो सकता है, जिसे अम्बिलिकल ग्रैन्यूलोमा कहते हैं. इलाज न मिलने पर यह दर्द, द्रव का रिसाव और संक्रमण का कारण बन सकता है.

नाभि की देखभाल कैसे करें
नाभि को साफ रखने और किसी भी स्वास्थ्य समस्या से बचने के लिए उचित देखभाल आवश्यक है. इस अक्सर अनदेखी क्षेत्र की उपेक्षा से यीस्ट, बैक्टीरिया या फंगस संक्रमण का कारण बन सकते हैं. नियमित सफाई हल्के साबुन और पानी के घोल से गंदगी और बैक्टीरिया को हटाकर संक्रमण के जोखिम को कम करती है. नाभि को सूखा रखना महत्वपूर्ण है, खासकर स्नान के बाद, क्योंकि यह गर्म, नम वातावरण में बैक्टीरिया के विकास को रोकने में मदद करता है. अपनी नाभि पर नजर रखना सामान्य स्वच्छता बनाए रखने, दर्द से बचने और इस नाजुक स्थान पर संक्रमण या त्वचा की समस्याओं से उत्पन्न होने वाले किसी भी परिणाम से बचने का एक आसान और प्रभावी तरीका है.