पहली बार देश का संविधान छापने वाली दो मशीनें कबाड़ के भाव डेढ़ लाख रुपए में बिकीं

पहली बार देश का संविधान छापने वाली दो मशीनें कबाड़ के भाव डेढ़ लाख रुपए में बिकीं

मीडियावाला.इन।

देहरादून. पहली बार देश का संविधान छापने वाली दो लिथोग्राफ मशीनें कबाड़ के भाव में बिकीं. सर्वे ऑफ इंडिया के अधिकारियों ने बताया कि दोनों मशीनों को खोलकर पिछले साल स्क्रैप डीलर को करीब डेढ़ लाख रु. में बेच दिया. सॉव्रिन और मोनार्क नाम की इन दोनों प्रिंटिंग मशीन के मॉडल का निर्माण क्रैबट्री कंपनी ने किया था. मालूम हो, भारतीय संविधान की शुरुआती एक हजार प्रतियों का प्रकाशन देहरादून के सर्वे ऑफ इंडिया ने कराया था. इसकी एक प्रति अभी भी उसके पास सुरक्षित है. बाकी सभी प्रतियां छपने के बाद दिल्ली भेज दी गई थीं.

Dailyhunt

0 comments      

Add Comment