स्वागत से अभिभूत सिंधिया ने किया ट्वीट- ग्वालियर की इस पावन धरा और यहां की जनता-जनार्दन को मेरा नमन

ग्वालियर में हुआ सिंधिया का जोरदार स्वागत

69
सिंधिया

ग्वालियर: मुरैना के बाद ग्वालियर में हुए अभूतपूर्व स्वागत से अभिभूत केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट कर जनता का आभार व्यक्त किया है। सिंधिया ने लिखा है ग्वालियर की इस पावन धरा और यहां की जनता-जनार्दन को मेरा नमन। आपके स्नेह और आशीर्वाद के लिए हृदय से आभारी हूँ। गौरतलब है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया मंत्री बनने के बाद पहली बार बुधवार से तीन दिन के ग्वालियर प्रवास पर आए हैं।

अंचल के सभी दिग्गज दिखे एक साथ-
मुरैना में राजघाट चंबल पुल पर स्वागत के बाद केंद्रीय मंत्री सिंधिया दोपहर बाद करीब 2:45 बजे ग्वालियर के स््रष्ठ्र द्वार पहुंचे। यहां इंदौर से आए विशेष रथ में सवार होने से पूर्व मध्यप्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, जिले के प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट, सांसद विवेक शेजवलकर और भाजपा के जिला अध्यक्ष कमल माखीजानी समेत अंचल व प्रदेश भर से आए पार्टी कार्यकर्ताओं ने सिंधिया का स्वागत किया। पुरानी छावनी चौराहे पर कलश लेकर खड़ी महिलाओं ने सिंधिया की आरती उतारी और उनके सम्मान में बधाई गीत भी गाए।

जगह-जगह हुआ जोरदार स्वागत-
नगर निगम के पूर्व नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र सिंह तोमर ने सिंधिया को तलवार व पगड़ी भेंट कर स्वागत किया। इस दौरान भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने जमकर आतिशबाजी की। निरावली तिराहे से बहोड़ापुर तक करीब 100 स्थानों पर सिंधिया का रथ रोक कर लोगों ने स्वागत किया। निरावली तिराहे से बहोड़ापुर तक करीब 100 स्थानों पर सिंधिया का रथ रोक कर लोगों ने स्वागत किया गया। सिंधिया के साथ रथ पर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, भिंड-दतिया सांसद संध्या राय, ग्वालियर सांसद विवेक शेजवलकर समेत दर्जनों कार्यकर्ता सवार हुए। रथ पर सवार होकर सिंधिया का कारवां शहर में प्रवेश कर गया।

इन स्थानों से गुजरा सिंधिया का रोड़ शो-
सिंधिया निरावली चौराहे से शहर की सीमा में प्रवेश कर, पुरानी छावनी, मोतीझील, बहोड़ापुर चौराहा, जेल मार्ग, रामदास घाटी, शिंदे की छावनी, फूलबाग गुरुद्वारा, मोती तबेला, नदी द्वार, जयेन्द्रगंज, इंदरगंज चौराहा, पुराना हाईकोर्ट, ऊंट पुल, पाटनकर बाजार, दौलतगंज, महाराज बाड़ा पहुंचें। सिंधिया के काफिले का स्वागत हाइवे से शहर तक 200 से ज्यादा स्थानों पर किया गया।
रथ यात्रा का समापन सिंधिया राजवंश के गोरखी स्थित देवघर पर हुआ। यहां सिंधिया कुलदेवताओं का आशीर्वाद लेने के बाद सूफी संत मंसूर अली शाह की दरगाह पर अकीदत पेश कर उनकी दुआएं भी ली। उसके बाद गोरखी, सराफा बाजार, गश्त का ताजिया, राम मंदिर, फालका बाजार, छप्परवाला पुल, नदी द्वार होते हुए जयविलास पैलेसे पहुंचें।

सिंधिया के स्वागत में ऐसी ही भीड़ इंदौर में उमड़ी थी और अब ग्वालियर में जनता ने जिस उत्साह के साथ उनका स्वागत किया उससे यह साबित हो गया है कि सिंधिया मास लीडर हैं और जनता उनके स्वागत में हमेशा आतुर रहती है।
ग्वालियर के प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट की जितनी तारीफ की जाए कम है जिन्होंने सिंधिया के रोड शो को सफल बनाने में कोई कोर कसर बाकी नहीं छोड़ी।