Umang Singhar’s Initiative : कांग्रेस में एकजुटता की पहल के लिए सिंघार आगे आए,दिग्विजय सिंह से माफ़ी मांगी!

हर कार्यकर्ता के एकजुट होने का भरोसा दिलाया.    देखिए, उमंग सिंघार की 'एक्स' पर की गई पोस्ट! 

736

Umang Singhar’s Initiative : कांग्रेस में एकजुटता की पहल के लिए सिंघार आगे आए,दिग्विजय सिंह से माफ़ी मांगी!

Bhopal : मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद यह समझा जाने लगा है कि कहीं न कहीं पार्टी में एकजुटता की कमी थी, जो हार का एक बड़ा कारण बना। पार्टी भले ही दिखने में ऊपर से एक दिखाई दे रही हो, पर उम्मीदवारों की घोषणा से लगाकर चुनाव प्रचार तक में पार्टी में एकजुटता की कमी दिखाई दी। अपनी सोशल मीडिया की इस पोस्ट को सिंघार ने कमलनाथ, दिग्विजय सिंह ,एमपी कांग्रेस और एमपीसीए को भी टैग किया। सिंघार की यह पोस्ट ऐसे समय पर सामने आई, जब प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने मंगलवार सुबह भोपाल में विधायक दल की बैठक बुलाई, जिसमें पार्टी की हार के कारणों पर मंथन हुआ।

पार्टी की इस कमी को दूर करने की पहली कोशिश धार जिले की गंधवानी विधानसभा से लगातार चार बार के कांग्रेस विधायक उमंग सिंघार ने की। वे कांग्रेस की वरिष्ठ नेता स्व जमुना देवी के भतीजे हैं। उन्होंने सोशल मीडिया (एक्स) पर एक पोस्ट के जरिए कमलनाथ और दिग्विजय सिंह के प्रति विश्वास व्यक्त किया और कहा कि कांग्रेस पार्टी का हर कार्यकर्ता मजबूती से चुनाव लड़ा, हम सब संगठित हैं एक है और भविष्य की लड़ाई के लिए तैयार हैं। उन्होंने आगे यह भी कहा कि मेरे पूर्व में किसी भी आचरण से आदरणीय दिग्विजय सिंह जी के सम्मान में कोई भी ठेस पहुंची हो, तो उसके लिए मैं क्षमा प्रार्थी हूं

सोशल मीडिया पर उमंग सिंघार की इस पोस्ट ने कांग्रेस में सामंजस्य और एकता की एक नई पहल को जन्म दिया है। इसलिए कि दिग्विजय सिंह और उमंग सिंघार के संबंध कभी सामान्य नहीं रहे। देखा जाए तो कांग्रेस में यह खामोश जंग पार्टी की वरिष्ठ नेता रही स्व जमुना देवी के समय से चली आ रही है। दिग्विजय सिंह के मुख्यमंत्री काल में स्व जमुना देवी उप मुख्यमंत्री थी। दोनों के बीच लम्बे समय तक नोकझोंक चलती। अब इस परंपरा को तोड़ते हुए उमंग सिंघार ने दिग्विजय सिंह से माफी मांगी और यह कहा कि भविष्य की लड़ाई के लिए हम तैयार हैं।

 

कांग्रेस एकजुट है और रहेगी

उमंग सिंगार ने ‘मीडियावाला’ से बातचीत करते हुए कहा कि इस माफी और पोस्ट के जरिए मैंने यह बताने कि कोशिश की है कि कांग्रेस एकजुट है और एकजुट रहेगी। क्योंकि, भाजपा नेता कांग्रेस को कमजोर करने की हर संभव कोशिश में रहते हैं। लेकिन, उनकी ऐसी कोई भी कोशिश कामयाब नहीं होगी। उन्होंने कहा कि इसी के साथ मैंने अपनी तरफ से यह पहल भी की है कि आदरणीय दिग्विजय सिंह जी से जाने-अनजाने में हुई भूल के लिए माफ़ी मांगी जाए। मुझे उम्मीद है कि मेरी पार्टी को एकजुट करने की यह पहल आगे तक जाएगी और कांग्रेस पहले से ज्यादा बेहतर और संगठित होकर भविष्य की तैयारी करेगी।