मंत्रियों को जागी उम्मीद, चुनाव होते ही मिलेगा जिलों का प्रभार,6 महीने से सिर्फ अपने-अपने विभाग तक है सीमित

342
Cabinet At 11 am
Cabinet At 11 am

मंत्रियों को जागी उम्मीद, चुनाव होते ही मिलेगा जिलों का प्रभार,6 महीने से सिर्फ अपने-अपने विभाग तक है सीमित

 

भोपाल: मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव की कैबिनेट के मंत्री पिछले छह महीने में अपने प्रभार के लिए जिला मिलने का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन राजनीतिक रणनीति के तहत मुख्यमंत्री ने किसी को भी जिले का प्रभार नहीं दिया। अब जल्द ही मंत्रियों को जिलों का प्रभार मिलने की संभावना बनी है। लोकसभा चुनाव के बाद इस पर मुख्यमंत्री और भाजपा संगठन विचार करने जा रहे हैं।

लोकसभा चुनाव के बाद जहां मंत्रिमंडल फेरबदल होने की अटकले लगाई जा रही हैं, वहीं यह भी संकेत मिले हैं कि जून में ही मंत्रियों को जिलों का प्रभार सौंपा जा सकता है। दरअसल प्रदेश में मंत्री बनते ही इन्हें लोकसभा चुनाव की जिम्मेदारी दी जाना थी, इसके लिए मुख्यमंत्री और भाजपा संगठन ने किसी भी मंत्री को जिले का प्रभार नहीं दिया था। जिले का प्रभार मिलने से मंत्री के अपने प्रभार वाले जिले में लोकसभा चुनाव में बेहतर प्रदर्शन करने का मानसिक दबाव होता, संगठन और मुख्यमंत्री ने मंत्रियों को इस दबाव से मुक्त रखते हुए, उनसे पार्टी के हित में चुनाव के दौरान काम लिया।

अब लोकसभा चुनाव के बाद मंत्रियों को जिलों का प्रभार दिया जाएगा। ऐसी संभावना है कि मुख्यमंत्री भी एक या दो जिले का प्रभार अपने पास रख सकते हैं। वहीं दोनो उपमुख्यमंत्रियों को भी दो-दो जिलों का प्रभार दिया जा सकता है। इनके अलावा सभी कैबिनेट मंत्रियों को भी दो-दो जिले का प्रभार दिया जा सकता है। जबकि राज्य मंत्रियों को एक-एक जिले का प्रभार मिल सकता है।

जो जिल अंचल का एक जिला वहीं का मिलेगा
जो मंत्री जिस अंचल का है, उस अंचल का एक जिला उन्हें दिया जा सकता है। जबकि दूसरा जिला उस अंचल का नहीं होगा। वहीं ग्वालियर, गुना, शिवपुरी, अशोक नगर जिले का प्रभारी तुलसी सिलावट, गोविंद सिंह राजूपत और प्रद्युम्न सिंह तोमर को मिल सकता है।

मंत्री कौन किस अंचल के
मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव सहित उपमुख्यमंत्री जगदीश देवड़ा, कैलाश विजयवर्गीय, विजय शाह, तुलसी सिलावट, इंदर सिंह परमार, चैतन्य कश्यम, निर्मला भूरिया, नागर सिंह चौहान ये सभी मालवा और निवाड़ क्षेत्र से आते हैं। वहीं मध्य क्षेत्र से करण सिंह वर्मा, राव उदय प्रताप सिंह, विश्वास सारंग, कृष्णा गौर, नारायण सिंह पंवार और गौतम टेंटवाल आते हैं। महाकौशल से प्रहलाद पटेल, राकेश सिंह, सम्पतिया उईके हैं। वहीं विंध्य क्षेत्र से उपमुख्यमंत्री राजेंद्र शुक्ल, प्रतिभा बागरी, दिलीप जायसवाल, राधा सिंह मंत्री हैं। बुंदेलखंड से गोविंद राजपूत, धर्मेंद्र लोधी, दिलीप अहिरवार हैं। बाकी के मंत्री ग्वालियर-चंबल अंचल से आते हैं।