New mayor of Chandigarh Declared : सुप्रीम कोर्ट ने ‘आप’ के उम्मीदवार को चंडीगढ़ का मेयर बनाया!  

चुनाव अधिकारी रहे अनिल मसीह को कारण बताओ नोटिस जारी! 

198

New mayor of Chandigarh Declared : सुप्रीम कोर्ट ने ‘आप’ के उम्मीदवार को चंडीगढ़ का मेयर बनाया!  

New Delhi : चंडीगढ़ मेयर चुनाव में बड़ा फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने ‘आप’ के उम्मीदवार कुलदीप कुमार को विजयी घोषित किया। कुलदीप कुमार ने ही सुप्रीम कोर्ट में चुनाव अधिकारी अनिल मसीह के खिलाफ याचिका दाखिल की थी।

महापौर पद के लिए 30 जनवरी को हुए चुनाव में बीजेपी के मनोज सोनकर ने AAP और कांग्रेस गठबंधन के उम्मीदवार कुलदीप कुमार को हराया था। सोनकर को 16 वोट मिले थे, वहीं मनोज कुमार के हिस्से में 12 वोट आए। पीठासीन अधिकारी अनिल मसीह ने 8 वोट अवैध घोषित कर दिए थे। इसके बाद कुलदीप कुमार फफक-फफक कर रोने लगे।

AAP पार्षद कुलदीप कुमार ने पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट का रुख किया। यहां अंतरिम राहत नहीं मिली। इसके बाद उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की। उनकी याचिका पर पहली बार 7 फरवरी को सुनवाई हुई। इस दौरान सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ ने वीडियो देखने के बाद तीखी टिप्पणी की।

सुप्रीम कोर्ट का फैसला

सुप्रीम कोर्ट में फिर 19 फरवरी को सुनवाई हुई. इस दौरान अनिल मसीह भी कोर्ट में पेश हुए। इस दौरान सीजेआई चंद्रचूड़ ने तीखे सवाल किए। आज सुप्रीम कोर्ट ने चंडीगढ़ मेयर चुनाव परिणाम को निरस्त कर दिया। कोर्ट ने कहा कि कुलदीप कुमार को मिले 8 वोट गलत तरीके से अमान्य करार किए गए थे। पीठासीन अधिकारी रहे अनिल मसीह को उनके आचरण के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया जा रहा है, उन्हें 3 हफ्ते में जवाब देना होगा।

अरविंद केजरीवाल बोले ‘सुप्रीम कोर्ट वजह से जीत’

आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने ‘एक्स’ पर लिखा कि कुलदीप कुमार एक गरीब घर का लड़का है। INDIA गठबंधन की ओर से चंडीगढ़ का मेयर बनने पर बहुत बहुत बधाई ये केवल भारतीय जनतंत्र और माननीय सुप्रीम कोर्ट की वजह से संभव हुआ। हमें किसी भी हालत में अपने जनतंत्र और स्वायत्त संस्थाओं की निष्पक्षता को बचाकर रखना है।

I.N.D.I.A. गठबंधन की जीत

कांग्रेस के आधिकारिक ‘एक्स’ अकाउंट पर कहा गया कि चंडीगढ़ के मेयर चुनाव में सुप्रीम कोर्ट ने INDIA गठबंधन के उम्मीदवार को विजय घोषित किया। यह देश में लोकतंत्र की जीत है, तानाशाही ताकतों को मुंहतोड़ जवाब है। इस ऐतिहासिक फैसले से लोकतंत्र की रक्षा करने के लिए सुप्रीम कोर्ट का बहुत-बहुत आभार. हम सभी देशवासियों को साथ मिलकर लोकतंत्र और संविधान की रक्षा करनी है। यह हम सभी का कर्तव्य है, देश के प्रति हमारी साझी जिम्मेदारी है। लोकतंत्र जिंदाबाद।

 

सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत

चंडीगढ़ मेयर चुनाव पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने कहा ‘मैं सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करता हूं। वास्तव में, हमें यह देखना चाहिए कि चुनाव आयोग जैसी संस्थाओं के अधिकार और विश्वसनीयता को कम किया गया। यह लोकतंत्र के लिए अच्छा तर्क नहीं है। मुझे आश्चर्य है कि सुप्रीम कोर्ट को हस्तक्षेप करना पड़ा और रिकॉर्ड सही करना पड़ा। इसे चुनाव आयोग के भविष्य के कामकाज का एक उदाहरण स्थापित करना चाहिए।’