पत्नी की निर्मम हत्या करने वाला आरोपी पुलिस क़ी गिरफ्त में

491

झाबुआ से कमलेश नाहर की रिपोर्ट

झाबुआ: कुल्हाड़ी से अपनी पत्नी की हत्या कर फरार हुए आरोपी को पुलिस ने 2 दिन में ही गिरफ्तार कर लिया।आरोपी ने अपनी पत्नी की हत्या तब की जब वह अपने मायके में थी।उसने आरोपी के साथ आने से इनकार कर दिया था।इसी से नाराज होकर आरोपी ने उस पर कुल्हाड़ी से वार किए थे।जिससे उसकी मौत हो गई थी।

दिनांक 28.09.2021 को मृतका की बहन सारिका ने बताया कि उसकी बड़ी बहन प्रमिला की शादी 15-16 वर्ष पूर्व गुरजी पिता पारू सिंगाडिया निवासी खेडी पिटोल के साथ हुई थी। उसकी बहन प्रमिला दो दिन पहले मुम्बई महाराष्ट्र से मजदुरी करके ग्राम कल्लीपुरा आई थी। घर पर फरियादिया, उसकी भाभी झुमा व बड़ी बहन प्रमिला थे। दिनांक 27.09.2021 को फरियादिया के जीजा गुरजी हाथ में कुल्हाड़ी लेकर ग्राम कल्लीपुरा आया और उसकी बहन प्रमिला को उसके साथ चलने को बोला।

बहन प्रमिला ने बोला कि उसका भाई चरणसिंह आयेगा और वह जेसा बोलेगा वेसा करूंगी। इसी बात को लेकर दोनों के बीच काफी झगड़ा हुआ। रात्री 2:30 बजे फरियादिया के जीजा गुरजी ने बहन प्रमिला को जान से मारने की नियत से कुल्हाड़ी से सिर पर मारा, जिससे प्रमिला की मृत्यु हो गई। फरियादिया व उसकी भाभी झुमा पकड़ने के लिये दोड़े किन्तु आरोपी गुरजी हाथ में कुल्हाड़ी लेकर वहां से भाग गया। जिस पर थाना कल्याणपुरा में मर्ग कायमी उपरांत धारा 302 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

कुल्हाडी से मारकर प्रमिला की निर्मम हत्या करने जेसी सनसनीखेज घटना को देखते हुए पुलिस अधीक्षक झाबुआ आशुतोष गुप्ता द्वारा आरोपी गुरजी को तत्काल पुलिस गिरफ्त में लेने हेतु निर्देशित किया गया। इस हेतु कुछ विशेष बिंदुओ पर कार्य करने हेतु थाना प्रभारी कल्याणपुरा का बताया गया।

उक्त घटना को देखते हुए थाना कल्याणपुरा की पुलिस टीम द्वारा टीमे गठीत कर आरोपी गुरजी को पकड़ने हेतु लगया गया। आरोपी गुरजी की गिरफ्तारी हेतु पुलिस टीम द्वारा हर संभव प्रयास किये जा रहे थे। आरोपी के होने की संभावनाओं वाले स्थानों पर दबीशे दी गई। आरोपी गुरजी भाग कर जायेगा तो जायेगा कहा, इस हेतु आरोपी के परिचितों के यहां सघन पूछताछ की गई। आरोपी गुरजी खेड़ी पिटोल का होने से पुलिस अधीक्षक झाबुआ द्वारा चौकी प्रभारी पिटोल को कल्याणपुरा क्षैत्र में हुई हत्या में सहायता करने हेतु लगाया गया।

इस हेतु चौकी प्रभारी पिटोल को अपने मुखबीर तंत्र को मजबूत करने हेतु निर्देशित किया गया। विश्वसनीय मुखबीर द्वारा सूचना मिली कि आरोपी गुरजी को फुलमाल चौराहे पर देखा गया है। इस सूचना पर पुलिस टीम द्वारा बड़ी ही सूझबूझ से घेराबंदी कर आरोपी गुरजी को पकड़ने में सफलता प्राप्त की। आरोपी गुरजी की निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त कुल्हाड़ी जप्त की गई।

इस प्रकार झाबुआ पुलिस द्वारा कुछ ही घंटो में इस सनसनीखेज हत्या का खुलासा कर आरोपी गुरजी को पकड़ने में सफलता प्राप्त की।

घटनाक्रम का खुलासा करने में थाना प्रभारी कल्याणपुरा निरी. के.एल. डांगी, चौकी प्रभारी पिटोल उनि रमेश कोली, प्रआर. 89 रईस, आर. 44 लोकेन्द्र का सराहनीय योगदान रहा। उक्त सराहनीय कार्य पर पुलिस टीम को पुलिस अधीक्षक झाबुआ द्वारा पुरूस्कृत करने की घोषणा की।