Political Mercury Heated Up in MP : मध्यप्रदेश में सियासी पारा गरमाया, BJP संगठन में बदलाव को लेकर अटकलों का बाजार गर्म!

प्रहलाद पटेल के ट्वीट ने मसले को और ज्यादा उलझा दिया!

2439

Political Mercury Heated Up in MP : मध्यप्रदेश में सियासी पारा गरमाया, BJP संगठन में बदलाव को लेकर अटकलों का बाजार गर्म!

Bhopal : कर्नाटक चुनाव के नतीजों के बाद मध्य प्रदेश की राजनीति भी गरमाई हुई है। राजनीति का पारा धीरे-धीरे चढ़ ही रहा था कि बुधवार रात 4 बड़े नेताओं की मुलाकात ने BJP में माहौल को और गर्म कर दिया। समझा जा रहा है कि जो कुछ घट रहा है, उसके नतीजे अगले कुछ दिनों में सामने आ सकते हैं। आज शाम मुख्यमंत्री दिल्ली जा रहे हैं और अगले 2 दिन वे पार्टी के बड़े नेताओं से कई मामलों पर विचार विमर्श करेंगे। इनमें संगठन में बदलाव से लगाकर मंत्रिमंडल पुनर्गठन तक का अटका मामला है।

बुधवार रात दिल्ली से अचानक 3 बड़े नेताओं का भोपाल आने के बाद सियासी पारा गरमा गया। माना जा रहा है कि अगले कुछ दिनों में मध्य प्रदेश में बीजेपी में बड़ा बदलाव हो सकता है। प्रदेश संगठन में बदलाव होने के साथ ही प्रदेश मंत्रिमंडल में फेरबदल और विस्तार की भी चर्चा है। दिल्ली से मिली जानकारी के अनुसार कल केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय की भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा से मुलाकात हुई है। इस मुलाकात को उसी नजर से देखा जा रहा है कि मध्य प्रदेश में आने वाले दिनों में कुछ बदलाव होने वाला है।

BJP: नाराज नेताओं को मनाने का जिम्मा नरेंद्र सिंह तोमर और प्रहलाद पटेल को, देर रात CM निवास पर हुई वरिष्ठ नेताओं की बैठक, मंत्रिमंडल विस्तार की भी अटकलें 

पता चला है कि मंत्रिमंडल में शिवराज कुछ ऐसे मंत्रियों को हटा सकते हैं जिनकी परफारमेंस रिपोर्ट ठीक नहीं आई। इन मंत्रियों में ज्योतिरादित्य सिंधिया कैंप के चार मंत्री बताए जा रहे हैं। हालांकि इन सारी बातों को लेकर नेताओं ने चुप्पी साध रखी है और कोई कुछ बोलने को फिलहाल तैयार नहीं है।

इसी बीच प्रह्लाद पटेल के एक ट्वीट के सियासी गलियारों में अलग-अलग मतलब निकाले जा रहे हैं। प्रहलाद पटेल ने ट्वीट किया कि मैं अपने पुराने मित्रों और अग्रजों शिवराज सिंह चौहान जी, नरेंद्र सिंह तोमर जी और कैलाश जी का दिल से आभार व्यक्त करता हूं जिन्होंने मेरी इस मन: स्थिति से उबारने और सक्रियता के लिए एक पुराना प्रयोग कर मुझे संबल दिया। उन्होंने कहा कि संघर्ष के समय में, आपके प्रेम और विश्वास का एहसास हुआ।

इस ट्वीट के अलग-अलग मतलब निकाले जा रहे हैं। उनमें एक यह भी है कि क्या प्रहलाद पटेल को प्रदेश में कोई ऐसी जिम्मेदारी दी जा रही है जिसे लेकर उन्होंने तीन नेताओं के प्रति आभार प्रकट किया है। इस ट्वीट ने राजनीतिक संभावनाओं को नए सिरे से उलझा दिया। जिसका जवाब तभी मिलेगा जब ये सियासी गुबार थम जाएगा।

Tankha Raised The Question : नए संसद भवन के उद्घाटन में उपराष्ट्रपति आमंत्रित क्यों नहीं! 

चुनावी तकरार: तीखे होते नेताओं के हमले,तेज होते वार-पलटवार