Caught the Murderer : भाजयुमो नेता की हत्या के दोनों आरोपी मंडीदीप में रिश्तेदार के यहां पकड़ाए!

इस हत्याकांड के पीछे भाजपा के किसी बड़े नेता का हाथ होने के सबूत मिले!

1094

Caught the Murderer : भाजयुमो नेता की हत्या के दोनों आरोपी मंडीदीप में रिश्तेदार के यहां पकड़ाए!

इंदौर। भाजयुमो नेता मोनू कल्याणे की हत्या करने वाले दोनों आरोपियों को पुलिस ने भोपाल के निकट मंडीदीप से गिरफ्तार कर लिया। वे यहां एक रिश्तेदार के यहां छिपे थे। वारदात में इस्तेमाल की गई पिस्टल नहीं मिली, जिसके बारे में पूछताछ की जा रही है।

IMG 20240624 WA0025

पुलिस का मानना है कि मोनू की हत्या करने वाले पीयूष और अर्जुन के साथ इस घटना में भाजपा का एक नेता भी शामिल है, पर अभी पुलिस ने उसके नाम का खुलासा नहीं किया। उसे मोनू के भाजपा में बढ़ते प्रभाव से जलन थी। हत्याकांड के पहले से ही वह नेता इंदौर से बाहर चला गया। दोनों आरोपियों और भाजपा नेता को डर था कि यदि मोनू को नहीं मारा तो वह उन्हें मार देगा।

हादसे के बाद पीयूष और अर्जुन को पकड़ने के लिए पुलिस लगातार दबिश दे रही थी। पुलिस ने मोनू की कॉल डिटेल भी खंगाली। इंदौर-भोपाल रोड के टोल नाके पर दोनों बाइक से जाते दिखाई दिए। दोनों की आखिरी लोकेशन मंडीदीप के आसपास मिली। इसके बाद क्राइम ब्रांच ने दोनों की घेराबंदी की।

यात्रा न निकालने की धमकियां भी मिली

रविवार शाम निकाली जाने वाली भगवा यात्रा से जुड़ी राजनीति को लेकर भी पुलिस जांच कर रही है। इसके लिए वह कई दिनों से प्रचार कर रहा था। मोनू ने बीते दिनों एक गैंगस्टर के धार्मिक यात्रा निकाले जाने के बाद से ही कहना शुरू कर दिया था कि वह इससे भी बड़ी यात्रा निकालेगा। इस बात को लेकर गैंगस्टर से जुड़े भाजपा नेता और दूसरे लोग मोनू से चिढ़ गए थे। वे मोनू को यह यात्रा नहीं निकालने देना चाहते थे और इसके लिए लगातार उसे धमकी दे रहे थे।

पिस्टल कहां से मिली, इसकी भी तलाश

शनिवार-रविवार की रात करीब 3 बजे एमजी रोड इलाके में भाजपा युवा मोर्चा के नगर उपाध्यक्ष मोनू कल्याणे की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मोनू मंत्री मंत्री कैलाश विजयवर्गीय का करीबी माना जाता था। हत्यारों को डर था कि मोनू भी उन लोगों की हत्या की तैयारी कर रहा है। इसके पहले पूरी प्लानिंग कर मोनू की ही हत्या कर दी।

भाजपा कार्यकर्ता और उसके साथियों ने मोनू को रविवार को भगवा यात्रा नहीं निकालने देने की बात भी कही थी। इसके बाद भी मोनू यात्रा की तैयारी कर रहा था। यही बात हत्या के पहले पीयूष और अर्जुन ने मोनू से कही थी। मोनू नहीं माना तो दोनों ने उस पर फायर कर दिया। पुलिस फायर करने वाली पिस्टल की भी जांच कर रही है। पुलिस पिस्टल सप्लाय करने वाले की भी तलाश कर रही है।